ABOUT US    CONTACT US    ADVERTISE WITH US

kisan curfew | 48 points marked | 17/07/2017 को किसान कर्फ्यू |

श्रीगंगानगर | जैतसर  | श्रीगंगानगर क्षेत्र  | राजस्थान  | किसान आन्दोलन | किसान कर्फ्यू  | 

17 जुलाई को सुबह 8 से लेकर दोपहर 12 बजे तक पूरी तरह से चक्का जाम किया जायेगा , इसके लिए पूरे क्षेत्र में 48 पॉइंट चिन्हित किये गए हैं |तथा ग्रामीण क्षेत्र में भी विभिन्न सडको पर चक्का जाम किया जायेगा | यह आन्दोलन एक कर्फ्यू के समान होगा और पूरे जिले में चक्का जाम रहेगा | इसका मुख्या उद्देश्य सरकार को विभिन्न मुद्दों के लिए चेतना है |  किसान संगठनों के पदाधिकारियों ने यह जानकारी शनिवार को पंचायती धर्मशाला में प्रेस कान्फ्रेंस में दी।

किसान नेताओं ने बताया कि स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने, किसानों का कर्ज माफ करने, केली की समस्या के समाधान के लिए केली कटर मशीन की व्यवस्था करने, फिरोजपुर फीडर का पुनर्निर्माण,  तथा आवारा पशुओं का उचित प्रबंध करने सहित अन्य मांगों को लेकर प्रदेश भर में चक्का जाम का आयोजन किया गया है। इस दिन किसान सड़कों पर उतर कर दूध-सब्जी आदि की आपूर्ति रोकेगा। धान मंडियों में अनाज की बोली नहीं होगी। इसके लिए व्यापारिक संगठनों ने आंदोलन का समर्थन किया है।

किसान संगठनों ने चक्का जाम के दिन किसानों से अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजने की अपील की है। श्रीगंगानगर दूध विक्रेता मजदूर यूनियन ने आंदोलन का समर्थन किया है।

किसान  नेताओं ने बताया कि जिले में खेती नहरी पानी पर आधारित है। लेकिन नहरी तंत्र बुरी तरह बिगड़ चुका है।

पर्याप्त पानी नहीं मिलने से खेती बर्बाद हो रही है और किसान कर्ज के बोझ तले दबते जा रहे हैं। गंगनहर को पानी की आपूर्ति करने वाली फिरोजपुर फीडर का पुनर्निर्माण नहीं हुआ तो गंगनहर क्षेत्र उजड़ जाएगा। वर्तमान में केली के कारण पानी में लगातार उतार-चढ़ाव आ रहा है, जिससे मूंग और ग्वार की बिजाई का समय निकला जा रहा है। प्रेस कान्फ्रेंस में अखिल भारतीय किसान सभा के जिलाध्यक्ष कालू थोरी, किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता सुभाष सहगल, गंगनहर किसान समिति के संयोजक रणजीतसिंह राजू व प्रवक्ता संतवीरसिंह मोहनपुरा, अमरसिंह बिश्नोई, पवन बिश्नोई, रिछपाल सिंह और अन्य नेता मौजूद थे।

जैतसर : आज दिनांक 14/7/2017 को भारत की कम्युनिस्ट पार्टी(मार्क्सवादी) की मीटिंग कॉमरेड हाकम सिंह की अध्यक्षता में सम्पन हुई । मिटिंग में 17/7/2017 को किसान संगठनों द्वारा राष्टव्यापी अहवान के तहत चका जाम का समर्थन करते हुए 5 की पुली पर 8 से 12 बजे तक किसानों के साथ चका जाम करने का निर्णय लिया गया मीटिंग में कॉम हरिकिशन कॉम मदन गिरी कॉम तुलसी शाक्य कॉम बाबूलाल ने देश और प्रदेश की के किसान और मजदूर विरोधी बताते हुए बताया कि देश मे तानाशाही राज कायम हो रहा है भाजपा के सत्ता में आने के बाद 3 साल में 36 हजार सड़ ज्यादा किसानों ने कर्ज से तंग आकर आत्महत्या की है |

सरकार ने सत्ता में आने से पहले अपने मेनीफेस्टो जो वादे किये थे वो सब जुमले साबित हो रहें।भाजपा की मोदी सरकार देश और पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाने के लिए एक के बाद एक कानून पूंजीपतियों के पक्ष में बना रही हैं। मजदूरों के आजादी से पहले जो सघर्ष ओर कुर्वानीयो के बल पर जो हासिल किए 44 श्रम कानूनों को खत्म कर मजदूर को पूंजीपतियों के गुलाम करने का काम कर रही है आज देश के पमाने पर गेर जरूरी मुददों से ध्यान भटकाने के लिए गाय और धर्म के नाम पर सम्प्रदायकता की आग लगाने का काम कर रही हैं मीटिंग में माकपा कार्यकर्ताओ ने हिस्सा लिया और गांवों में प्रचार प्रसार कर 17 तारीख को चक्का जाम 5 की पुली सफल बनाने का निर्णय लिया |

सोर्स : पत्रिका + अन्य समाचार माध्यम |

Facebook Comments
Please follow and like us:

Be the first to comment on "kisan curfew | 48 points marked | 17/07/2017 को किसान कर्फ्यू |"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*


Enjoy this blog? Please spread the word :)